नवीनतम प्रविष्टियां

Archive

सबसे बड़ा कार्य

सबसे बड़ा कार्य है एक पूर्ण जागृत इंसान का निर्माण| एक जागृत मानव पूरे विश्व को प्रकाशित करने का सामर्थ्य रखता है| महर्षि दयानन्द, स्वामी विवेकानन्द, श्री अरविन्द, आचार्य चाणक्य, भगवान् श्रीराम, योगश्वर श्रीकृष्ण, भगवान् शिव व महायोगी हनुमान ये सब जागृत आत्माएं थी|

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

मृत्यु समाधन नहीं

मृत्यु समाधन नहीं, क्योंकि मरकर पुनः जन्म लेना सुनिश्चित है, अतः दुनियाँ से भयभीत होकर, अपनों की पीड़ा एवं विश्वासघात से आहत होकर अवसाद में मृत्यु को स्वीकारना मूर्खतापूर्ण होगा।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

सच्चाधन

सुस्वास्थ्य, सद्ज्ञान, सदभाव, सद्कर्म, सुसंस्कार, सदाचार, सात्विक समृधि एवं योग पूर्वक उद्योग ये आठ हमारी सच्ची दौलत है |

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

योग की उपलब्धि

योग की सबसे बड़ी उपलब्धि है अज्ञान व अज्ञानजनित दोषों, अहंकार, अभाव, क्लेशों, विकारों व समस्त अशुभ से मुक्त होकर अपनी निजता, अपने मूल स्वरूप या मूल स्वभाव में जीना, यही योग है|

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

तृष्णा कभी तृप्त नहीं होती

जीने के लिए दो गज जमीन, तन ढ़कने के के लिए दो वस्त्र एवं भूख मिटाने के लिए दो रोटी तो सबको मिल ही जाती है। तृष्णा किसी भी व्यक्ति की कभी तृप्त नहीं होती।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

आग्रह नहीं होना चाहिए

जीवन के क्षेत्र में क्षितिज तक वे ही पहुँचते हैं जो आग्रह नहीं रखते। आग्रह हमें कुण्ठित एवं संकीर्ण बना देते हैं। आग्रह के टूटने पर सत्य का द्वार अनावृत होता है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider
अगला पृष्ठ