नवीनतम प्रविष्टियां

Archive

अच्छे साधक

जगत् कल्याण के लिए सुधारक बनने से पहले एक अच्छे साधक बनना। साधक बन जाओगे तो सुधर तो स्वतः ही घटित होगा।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

कार्य कैसे करे

जो भी कार्य करे पर्फ़िक्शन, वैज्ञानिक, लॉंग विश़न के साथ करे| समूह में कार्य करे और सामूहिक श्रेय ले और कभी अहंकार न करे|

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

उद्योग विकास के मन्दिर

उद्योग माँ भारती के विकास के ऐसे मन्दिर हैं जहाँ कर्मचारी रूपी पुजारी अपने कर्म (काम) पुरुषार्थ रूपी पूजा से माँ भारती की वन्दना करते हैं और देश को समृद्ध  व शक्तिशाली बनाते हैं।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

जीवन में संतोष का महत्व

पूर्ण परिश्रम के उपरांत जो कुछ भगवान के क्रम फल के अनुरूप हमें मिलता है, उसमे संतुष्ट रहना| भवान के क्रम फल व्यवस्था के अनुरूप जो हमने पुरुषार्थ किया, वो हमें मिलता है, उसमे संतुष्ट रहना हैं और उसको भी सेवा में ही लगाना संतोषी सदा सुखी|

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

मृत्यु समाधान नहीं

मृत्यु समाधान नहीं, क्योंकि मरकर पुनः जन्म लेना सुनिश्चित है, अतः दुनियाँ से भयभीत होकर, अपनों की पीड़ा एवं विश्वासघात से आहत होकर अवसाद में मृत्यु को स्वीकारना मूर्खतापूर्ण होगा।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

गुरु पूर्णिमा

गुरु तत्व सबके जीवन में घटित हो इसलिए हम गुरु पूर्णिमा का पर्व मना रहे हैं| जो गुरु तत्व है, गुरु सत्ता है, ऋषि सत्ता, ऋषि तत्व है, भागवत तत्व, भागवत सत्ता है वो हमारे माध्यम से प्रकट हो जाए, हमारे भीतर अभिव्यक्त हो जाए, ये है गुरु परंपरा, ये है गुरु पर्व, ये है […]

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider
अगला पृष्ठ