नवीनतम प्रविष्टियां

Archive

मोह-माया के बन्धन

सत्संग, स्वाध्याय, श्मशान एवं संकट के समय जैसी व्यक्ति की मति होती है वैसी ही बुद्धि यदि सदा स्थिर हो जाए तो जीव मोह-माया के बन्धन से मुक्त हो जाता है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

जीवन में क्षितिज

जीवन के क्षेत्र में क्षितिज तक वे ही पहुँचते हैं जो आग्रह नहीं रखते। आग्रह हमें कुण्ठित एवं संकीर्ण बना देते हैं। आग्रह के टूटने पर सत्य का द्वार अनावृत होता है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

मोह-माया के बन्धन

सत्संग, स्वाध्याय, श्मशान एवं संकट के समय जैसी व्यक्ति की मति होती है वैसी ही बुद्धि यदि सदा स्थिर हो जाए तो जीव मोह-माया के बन्धन से मुक्त हो जाता है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

संस्कारों की नींव

अपने बच्चों को कितनी सम्पत्ति दी, यह महत्वपूर्ण नहीं अपितु संस्कारों की विरासत कितनी दी, यह महत्वपूर्ण है, क्योंकि संस्कारों की नींव पर ही जीवन की इमारत व संसार का साम्राज्य खड़ा होता है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

कर्म की ध्वनि

हजारों शब्दों से एक कर्म की ध्वनि अधिक सबल होती है व तीव्र गुंजायमान होती है। अतः हम मात्रा प्रवचन से नहीं अपितु आचरण से परिवर्तन करने की संस्कृति में विश्वास रखें।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

उद्योग विकास के मन्दिर

उद्योग माँ भारती के विकास के ऐसे मन्दिर हैं जहाँ कर्मचारी रूपी पुजारी अपने कर्म (काम)  पुरुषार्थ रूपी पूजा से माँ भारती की वन्दना करते हैं और देश को समृर्द्ध  व शक्तिशाली बनाते हैं।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider
अगला पृष्ठ