इस देश में वास्तविक रूप से लगभग 1 लाख टन सोना है, जिसकी कीमत लगभग 300 लाख करोड़ रुपये है, इसमें लगभग 80% कालाधन ही है, क्योंकि लगभग 20 हजार टन सोना ही वैध रूप से देश में है। माइनिंग, रीयल स्टेट, नशा उद्योग, कालाबाजारी, राजनीति, शिक्षा, चिकित्सा व कानून आदि के क्षेत्र में भी कम से कम बराबर का या दोगुना कालाधन है। कुल मिलाकर देश की अर्थव्यवस्था का वास्तविक आकार लगभग 500 लाख करोड़ रूपये है, जबकि जी.डी.पी. के रूप में लगभग 80 से 100 लाख करोड़ से भी अधिक कालाधन 1% से 5% कुछ बड़े, बुरे व बेईमान लोगों के पास जमा है। इसी कालेधन को 95% से 99% आम लोगों तक पहुँचाना है। इसमें कुछ ब्लैकमनी है, कुछ ग्रे-मनी है, कुछ लूट, चोरी व रिश्वतखोरी व घोटालों आदि का पैसा है, इसमें से प्रतिवर्ष कुछ पैसा देश के भीतर जमा होता रहता है या घुमता रहता है तथा कुछ देश के बाहर विदेशों में चला जाता है। पुरी दुनियाँ की अर्थव्यवस्था वैध रूप में लगभग 3 हजार लाख करोड़ रुपये की है तथ इतना ही अर्थात 3 हजार लाख करोड़ अवैध या कालाधन है। अमेरिका व इंग्लैण्ड आदि इस कालेधन का इस्तेमाल कर रहे हैं।