यह दोनों वाक्य समानांतर सच हैं कि ‘योग’ शरीर को साधता है और शरीर ‘योग’ को।