गर्भाधान, पुंसवन, सीमन्तोन्नयन, जातकर्म, नामकरण, यज्ञोपवीत व वेदारम्भादि सोलह संस्कार मानव जीवन की आधारशिला है।