बिना अष्टांग योग की साध्ना के कोई योगी नहीं बन सकता। हम योग के द्वारा एक स्वस्थ, समृद्ध व संस्कारवान् राष्ट्र व विश्व का निर्माण करना चाहते हैं।