भावुकता व्यक्ति को विवेकशून्य बना देती और संवेदनहीनता इन्सानियत को मिटा देती है। अतः भावुक नहीं संवेदनशील बनों।