सज्जन व कर्मशील व्यक्ति तो यह जानता है कि शब्दों की अपेक्षा कर्म अधिक जोर से बोलते हैं। अतः वह अपने शुभकर्म में ही निमग्न रहता है।