अंधेरों को उजालों में, दुःख को सुख में, प्रतिकूलता को अनुकूलता में व राजय को विजय में बदलने की शक्ति तुम्हारे भीतर है।