विचार ही परिपक्व होकर संस्कार या स्वभाव के रूप में हमारे साथ जुड़ जाते है | सबसे पहला प्रभाव होता है माता-पिता से, फिर परिवार, स्कूल, समाज इसमें बड़ी भूमिका निभाते हैं| इस सम्पूर्ण सृष्टि के यदि कोई वस्तु है तो वह विचार या संकल्प और पुरुषार्थ है और उसी का विस्तार एवं परिणाम है यह सारा संसार|