फूल से अधिक कोमल स्वभाव एवं वज्र से अधिक कठोर अनुशासन व दृढ़ता वाली प्रकृति के लोग ही सच्चे अनुशास्ता, प्रशासक या नेता हो सकते हैं।