जीवन के क्षेत्र में क्षितिज तक वे ही पहुँचते हैं जो आग्रह नहीं रखते। आग्रह हमें कुण्ठित एवं संकीर्ण बना देते हैं। आग्रह के टूटने पर सत्य का द्वार अनावृत होता है।