भीड़ में खोया हुआ इंसान खोज लिया जाता है परन्तु विचारों की भीड़ में बीहड़ में भटके हुए इंसान का पूरा जीवन अंध्कारमय हो जाता है।