सत्य और असत्य को साफ-साफ देखता है और फिर सत्य का चयन करता है असत्य को दूर हटाता जाता है वह है असली सन्यासी|