संस्कारों की नींव पर ही जीवन की इमारत व संसार का साम्राज्य खड़ा होता है।