विचारशीलता ही मनुष्यता और विचारहीनता ही पशुता है। पवित्रा विचार-प्रवाह ही मधुर वाणी व प्रभावशाली जीवन का मूल  स्रोत है।