ओ३म कहने से परमात्मा के सभी नाम भज जाते है| सारे नाम , सारे गुण, सारे कर्म, सारे स्वभाव, सारे ऐश्वर्य, भगवान का जो अनन्त ज्ञान, सुख, शांति, आनन्द का जो श्रौत है वो ओ३म में सब कुछ आ गया | ओ३म हमें पिण्ड, ब्रम्हांड, सारे नाम, सारे ज्ञान, सारे ऐश्वर्य, सारे विद्या सारे आ गये| इसलिये कहते है परमात्मा का सबसे बड़ा नाम क्या है ओ३म | जब नाम दीक्षा देते है तो ओ३मकार की ही दीक्षा देते है|