सुबह के योग अभ्यास के साथ-साथ जीवन में आचरण में, व्यवहार काल में भी हमें यम-नियमों का पालन करना चाहिए | पांच यम – अहिंसा, सत्य, अस्तेय, ब्रह्मचर्य, अपरिग्रह और पांच नियम – शौच, संतोष, तप, स्वाध्याय, ईश्वर | जब हम यम – नियमों का पालन करेंगे और समाज के लोग भी जीवन में सार्वजनिक नियम को अपनाएंगे तो सबके जीवन में सुख होगा, शांति होगी, समृद्धि होगी, प्रसन्नता होगी |