योग इस एक शब्द में पिण्ड व ब्रह्माण्ड के सम्पूर्ण सत्यों का समोवश है। बस आवश्यकता है योग के समग्र सत्य को समझने और उसके अनुसार जीने की।