योग हमारे भौतिक एवं भावनात्मक अस्तित्व व व्यक्तित्व को संवारने तथा वामन से विराट होने की साधना है।