जब तक जीवन में समर्थ गुरु नहीं मिलता तब तक सही समझ नहीं होती और सही समझ नहीं होने पर व्यक्ति कभी सुखी नहीं हो सकता|