प्रार्थना या प्रायश्चित् (तौबा) उसको कहते हैं जो एक बार करके, दुबारा न करनी पड़े।