श्रेणी पुरालेख | दैनिक विचार | पृष्ठ 2

Archive

ज्ञान

ज्ञान एक बहुत ही व्यापक विषय है इसमें ज्ञान, विज्ञान, अनुसंधान, तत्वज्ञान एवं विविध कौशल समाहित होते हैं | ज्ञान का अन्तिम परिणाम, लक्ष्य या गन्तव्य है कि हमें यह समझ में आ जाय कि सब कुछ का मूल आधार भगवान् है|

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

अभ्यास की सात्विकता

यदि पूरे जीवन को एक शब्द में कहा जाये तो वह है अभ्यासों की सात्विकता, प्रातः उठने से लेकर रात को सोने तक शरीर, इन्द्रियों, मन, बुद्धि, चित्त व संस्कारों से लेकर सोच, विचार, वाणी, व्यवहार, आहार, स्वभाव व सम्बन्धों में पूर्ण सात्विकता के साथ हमें जीने का अभ्यास करना चाहिए |

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

प्रकृति हमारी माँ

प्रकृति हमारी माँ है। इसकी रक्षा करो तथा वृक्ष हमारी रक्षा करने वाले पिता रूप हैं। इस जन्म में तुमने जितनी ऑक्सीजन ली है, उतनी ऑक्सीजन वृक्षारोपण करके प्रकृति को वापस लौटाओ।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

कर्मयोग या दिव्यकर्म

जब हमें यह बोध हो गया कि समस्त ज्ञान, शक्ति एवं ऐश्वर्य का मूल आधार भगवान है तो हम निमित्त मात्र होकर, भगवान् के यंत्र बनकर वेदानुकूल, शास्त्रानुकूल, ऋषियों या मुद्दे के अनुकूल व आत्मनुकुल आचरण करने लगते हैं |इसी को प्रीति पूर्वक, धर्मानुसार यथायोग्य न्यायपूर्ण व विवेकपूर्ण व्यवहार भी करते हैं| हम अकर्त्ता होकर […]

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

श्रद्धा

श्रद्धा माँ, और विश्वास पिता है। श्रद्धा सत्य ज्ञान की उपलब्धि एवं परमशक्ति का सोपान है। श्रद्धा आध्यात्मिक जीवन का अभिषेक तत्व है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

समय ही सम्पत्ति है

समय ही सम्पत्ति है जो समय का सम्मान नहीं करता तथा समय के साथ नहीं चलता उसको समय कभी माफ नहीं करता।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider
पिछला पृष्ठ | अगला पृष्ठ