श्रेणी पुरालेख | दैनिक विचार | पृष्ठ 2

Archive

देश को महान बनाना है

भगवत् शक्ति

ध्यान-उपासना के द्वारा जब तुम ईश्वरीय शक्तियों के संवाहक बन जाते हो तब तुम्हें निमित्त बनाकर भगवत् शक्ति कार्य कर रही होती है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

देश को महान बनाना है

प्रेम का व्यवहार

यदि हम जीवन दे नहीं सकते तो हमें मारने का अधिकार भी नहीं है, इसलिये हमें सभी प्राणियों से प्रेम का व्यवहार रखना चाहिये

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

अतीत की स्मृति

अतीत को कभी विस्मृत नहीं करना चाहिए। अतीत का बोध् हमें गलतियों से बचाता है तथा शीर्ष पर पहुँचे हुए व्यक्ति को अतीत की स्मृति अहंकार नहीं आने देती।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

निष्काम कर्म

कर्म ही मेरा धर्म है। कर्म ही पूजा है। कर्म ही जीवन व जगत का सत्य है। निष्काम कर्म, कर्म का अभाव नहीं, अपितु कर्त्तव्य के अहंकार का अभाव होता है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider
पिछला पृष्ठ | अगला पृष्ठ