श्रेणी पुरालेख | दैनिक विचार | पृष्ठ 3

Archive

नशे से दूर रहे युवा पीढ़ी

क्या कोई सिग्रेट व शराब नशे आदि का व्यापार करने वाला पिता ये चाहता है कि उसके मासूम बच्चे नशे के विनाशकारी कुचक्र में फंसकर, अपना जीवन व जवानी बर्बाद करें।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

निर्भय होकर कैसे जियें

अभय- सब प्रकार से हम अभय हो निर्भय हो | अभय-निर्भय वो ही रह सकता है जो जीवन को पवित्रता पूर्वक जीता है |

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

समर्थ गुरु

जब तक जीवन में समर्थ गुरु नहीं मिलता तब तक सही समझ नहीं होती और सही समझ नहीं होने पर व्यक्ति कभी सुखी नहीं हो सकता|

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

योग

योग हमारे भौतिक एवं भावनात्मक अस्तित्व व व्यक्तित्व को संवारने तथा वामन से विराट होने की साधना है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

स्वदेशी

स्वदेशी भाषा, वेशभूषा, भेषज, भजन- यह मात्र भावना या स्वार्थ पर टिका हुआ दर्शन नहीं, अपितु व्यष्टि, समष्टि व राष्ट्र के सर्वांगीण गौरवशाली विकास एवं समृद्धि का मूल है। यह समग्र, स्थायी, अहिंसक व न्यायपूर्ण विकास या समृद्धि का दर्शन है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

जीवन की प्रेरणा

हर दिन प्रातः ब्रह्ममुहूर्त में उठते ही ये विचार व चिंतन करें कि मैं मूलतः ईश्वर की संतान, ऋषि-ऋषिकाओं, वीर-वीरांगनाओंकी संतान या भारत माता की संतान हूँ।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider
पिछला पृष्ठ | अगला पृष्ठ