नवीनतम प्रविष्टियां | पृष्ठ 2

Archive

सत्य की खोज

पवित्र विचार

विकास का अर्थ

विकास का अर्थ यह नहीं कि एक समृद्ध व्यक्ति और अधिक  सम्पत्ति अर्जित कर ली है अपितु देश व दुनियाँ के अंतिम आम आदमी को शिक्षा, चिकित्सा, सामाजिक न्याय व सम्मान हम कितना दे पा रहे हैं।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

संस्कारवान भारत बनाएं

आओ! हम सब संगठित होकर एक नया भारत बनाएं। देश में नई आजादी व नई व्यवस्था लाएं और देशभक्त ईमानदार व श्रेष्ठ लोगों को संगठित कर, एक शक्तिशाली व संस्कारवान भारत बनाएं।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

पवित्र संकल्प

प्रतिक्षण के पवित्र संकल्प या विचार से दुष्ट, अधम व नीच व्यक्ति भी महान् बन सकता है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

शक्ति तुम्हारे भीतर है

अंधेरों को उजालों में, दुःख को सुख में, प्रतिकूलता को अनुकूलता में व राजय को विजय में बदलने की शक्ति तुम्हारे भीतर है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider
पिछला पृष्ठ | अगला पृष्ठ