नवीनतम प्रविष्टियां | पृष्ठ 3

Archive

पवित्रा संकल्प

एक क्षण के पवित्रा संकल्प या विचार से दुष्ट व्यक्ति भी परिवर्तित होकर सज्जन बन जाता है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

जीवन एक उत्सव

जीवन एक उत्सव है। जीवन परमात्मा की सबसे बड़ी सौगात है। जीवन परमेश्वर का उत्कृष्ट उपहार है। यह देह देवालय, शिवालय व भगवान का मन्दिर है।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

राष्ट्रधर्म के प्रतिनिधित्व

हम राष्ट्रधर्म के प्रतिनिधित्व व प्रचारक है। यह हमें सदा स्मरण रखना चाहिए कि हमारा सम्पूर्ण व्यक्तित्व, हमारी वाणी, व्यवहार, खान-पान व आचरण ऋषि संस्कृति की गरिमा के पूर्ण रूप से अनुकूल रहना चाहिए।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

सेवा के अवसर ढू़ंढ़ते रहना चाहिए

बिना सेवा के चित्त शुद्धि नहीं होती है और चितशुद्धि के बिना परमात्मतत्त्व की अनुभूति नहीं होती। अतः सेवा के अवसर ढू़ंढ़ते रहना चाहिए।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider

नया इतिहास

स्वच्छ बनाने के संकल्प

देश का जल, भूमि, वायु व आकाश सब स्वच्छ व पवित्रा रहने से ही मानव का जीवन सुरक्षित रह सकता है। हम गंगा के साथ भारत वर्ष की समस्त नदियों व पूरे देश को स्वच्छ बनाने के संकल्प से प्रतिबद्ध हैं।

० टिप्पणी
आगे पढ़ें
divider
पिछला पृष्ठ | अगला पृष्ठ